कई दिनों से चल रहा था जिस्मफिरोशी का धंधा, दिल्ली से आती थी कॉल गर्ल, रजिस्टर से खुलेंगे ग्राहकों के नाम

0
2227
विज्ञापन के लिए संपर्क करें: 9654657314








कई दिनों से चल रहा था जिस्मफिरोशी का धंधा, दिल्ली से आती थी कॉल गर्ल, रजिस्टर से खुलेंगे ग्राहकों के नाम

हापुड़, सीमन (ehapurnews.com): जनपद हापुड़ के बाबूगढ़ कोतवाली क्षेत्र के बाबूगढ़ छावनी से पुराने हाईवे पर गांव उपेड़ा का पुल पार कर स्थिति ग्रीन ओयो होटल में पिछले कई दिनों से वेश्यावृत्ति का गौरखधंधा चल रहा था। रजिस्टर को पुलिस ने कब्जे में लिया है। उसमें 30 मार्च 2024 से लेकर 20 अप्रैल 2024 तक आने वाले ग्राहकों के नाम और रुपए का विवरण अंकित है। इस रजिस्टर से कई भेद खुलेंगे।

स्थानीय पुलिस को नहीं लगी भनक:

सबसे बड़ी बात तो यह है कि बाबूगढ़ पुलिस का खुफिया तंत्र भी फेल हो गया जो कि मामले का पर्दाफाश न कर सका। जब मामले से जुड़ी एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो क्षेत्राधिकारी पिलखुवा पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले में कार्रवाई करते हुए होटल के मैनेजर 19 वर्षीय तपेश कुमार पुत्र ब्रह्मपाल सिंह निवासी करीरा थाना शिकारपुर जनपद बुलंदशहर और 55 वर्षीय राजू पुत्र रामपाल सिंह निवासी लोधीपुर थाना गढ़ जनपद हापुड़ को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

दोनों होटल मालिक हैं फरार:

पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए तपेश कुमार, राजू, चेतन सिंह पुत्र मांगू सिंह निवासी सिखेड़ा परीक्षितगढ़ मेरठ तथा महिपाल सिंह निवासी सुकलमपुरा हापुड़ के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। होटल मालिक चेतन सिंह और महिपाल सिंह पुलिस गिरफ्त से फरार है।

छह इस्तेमाल किए हुए कॉन्डम मिले:

पुलिस ने मौके से छह इस्तेमाल हुए कॉन्डम के साथ-साथ आपत्तिजनक सामग्री के दो खाली पैकेट और कई सील व खुले पैकेट बरामद हुए हैं। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 1200 रुपए की नकदी, रजिस्टर और मोबाइल फोन बरामद किए हैं।

ये भी पढ़ेःनोटिस के बाद भी चल रहे होटल, नहीं है सराय पंजीकरण

नोटिस के बाद भी चल रहे होटल, नहीं है सराय पंजीकरण

102 व 103 में मन रही थी रंगरलियां:

सूत्रों ने बताया कि कमरा नंबर 102 व 103 में रंगरलिया मन रही थी। होटल में कुल छह कमरे हैं जिनमें से उपरोक्त कमरों में रखे डस्टबिन में से आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई जिसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया। लाजमी है कि 102 व 103 में रंगरलिया मनाई गई थी।

दिल्ली से आती थी लड़कियां:

आरोपी ग्राहकों को वेश्यावृत्ति के इस धंधे में धकेलने के लिए उनसे संपर्क भी करते और दिल्ली से लड़कियां बुलाकर ग्राहकों को दिखाते और 1000 से लेकर 2000 तक उसका रुपया लेते। कमरे का 500 से 800 अलग से ले लेते। मैनेजर 30% धनराशि में से हिस्सा लेते और शेष बची हुई धनराशि को दोनों मलिक आपस में बांट लेते।

मोबाइल पर फोटो दिखाकर करते लड़की बुक:

इतना ही नहीं बल्कि आने वाले ग्राहकों को मोबाइल पर लड़कियों की फोटो दिखाकर उनकी डिमांड पूछते और डिमांड के अनुसार ही लड़कियों को बुलाते और लड़कियों को उनका कमीशन मिल जाता।

अवैध रुप से चल रहे कई होटल:

सबसे बड़ी बात तो यह है कि पुलिस-प्रशासन ने अवैध रूप से संचालित होटल के खिलाफ अभियान छेड़ा हुआ है लेकिन इसके बावजूद भी बिना सराय पंजीकरण के यह होटल चल रहा था जिसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। यदि वीडियो वायरल नहीं होती तो वेश्यावृत्ति का यह धंधा शायद चलता रहता। फिलहाल अवैध रूप से संचालित इस होटल को सील कर दिया गया है लेकिन हापुड़ के अधिकांश ओयो होटल ऐसे हैं जो कि नियम विरुद्ध चल रहे हैं। अय्याशी का अड्डा बने इन होटलों के खिलाफ भी पुलिस कोई खास कार्रवाई नहीं कर रही।

ये भी देखेंःजिस्मफरोशी के धंधे में शामिल दो को गिरफ्तार किया, आपत्तिजनक सामग्री भी बरामद

Brainwaves International School में Admission के लिए काल करें: 8279806606